Thursday, 1 January 2015

जो गुज़रे साल की आखरी रात हुआ... वो इस साल न हो....
बड़ी मुश्किल से तो इकरार हुआ....बस अब कभी इनकार न हो....
दुआ करता हूँ कि मेरी बात में ही उनकी बात....
कुछ ऐसा ही यह नया साल हो....

No comments:

Post a Comment