Tuesday, 6 January 2015

कभी तो हम पे तुम्हारा एहसान हो जाए
जान तो बहुत गए तुम्हे बस अब थोड़ी पहचान हो जाए ।

No comments:

Post a Comment