Tuesday, 6 January 2015

कहने को तो बहुत कुछ हैं उनके पास....
ना जाने क्या बात है...
है यह ज़माने का डर या फिर कुछ और....
जो इकरार ना करते हैं....

No comments:

Post a Comment