Saturday, 17 January 2015

न जाने कैसा है ये सफ़र....
बेचैन सा बस रहता हूँ....
तुमसे जो मिली है नज़र....
बिन तेरे खोया खोया सा रहता हूँ....
तुमको भी कुछ ऐसा एहसास होता है क्या....
कि होता हूँ तुमसे दूर लेकिन दिल तुम्हारे पास होता है....
कर तू भी कुछ कोशिश इतनी....
मिल गए हैं दिल....मिल जाएं हम भी दोनों एक दुसरे से....
सफ़र है बहुत लंबा....है मुश्किलों भरा....
चलो करते हैं मिलके इस तय....
ऐसी हो अपनी दास्ताँ की लोग भी वाह वाह कर उठे अपने प्यार पे....

No comments:

Post a Comment